डिमांड ड्राफ्ट और चेक में क्या अंतर है?

Bank Cheque vs Demand Draft: चलिए इस लेख में जान लेते हैं डिमांड ड्राफ्ट और चेक में क्या अंतर है DD और चेक दोनों ही कैशलेस भुगतान के लिए उपयोग किए जाते हैं, लेकिन कुछ लोग इन दोनों के अंतर के बारे में नहीं जानते हैं, आज हम इसी की जानकारी इस पोस्ट में आपको बताने जाने वाले हैं जिससे आपको पता चल जाएगा डिमांड ड्राफ्ट क्या है? चेक क्या है? और इन दोनों में क्या समानताएं हैं तथा क्या अंतर है।

इससे पहले हमने आपको बताया था Prepaid और Postpaid कनेक्शन में क्या अंतर है यदि आप भी इस बात से अनजान हैं तो इसलिए को पढ़ सकते हैं, इसके अलावा क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड क्या है और इन दोनों में क्या अंतर है के बारे में हम आपको बता चुके है।

डिमांड ड्राफ्ट और चेक कैशलेस भुगतान के सबसे पुराने तरीके है और अभी भी लोग चेक का उपयोग काफी ज्यादा करते हैं लेकिन ऐसा नहीं है डिमांड ड्राफ्ट की उपयोगिता कम हो गई है और डिमांड ड्राफ्ट की उपयोगिता कम होगी भी नहीं क्योंकि डिमांड ड्राफ्ट कोई भी जारी कर सकता है चाहे उसके पास बैंक अकाउंट हो या ना हो।

एक चेक एक परक्राम्य उपकरण है जिसमें बैंक को एक निर्देश शामिल है, जो स्पष्ट रूप से ड्रॉअर द्वारा हस्ताक्षरित है, एक निश्चित राशि के फंड को एक निर्दिष्ट व्यक्तिगत विषय में निकासी के लिए स्थानांतरित करना। डिमांड ड्राफ्ट भी एक परक्राम्य साधन है, लेकिन मांग पर पूर्ण रूप से देय है।

डिमांड ड्राफ्ट क्या है?

डिमांड ड्राफ्ट और चेक में क्या अंतर है

डिमांड ड्राफ्ट एक ग्राहक द्वारा बैंक द्वारा जारी किया गया एक परक्राम्य वित्तीय साधन है, जिसमें एक बैंक की एक शाखा से दूसरी शाखा में एक निश्चित राशि का भुगतान करने का आदेश होता है। आपको बता दें डिमांड ड्राफ्ट की अवधि 3 महीने की होती है, लेकिन इसे एक आवेदन से फिर मान्य किया जा सकता है। डिमांड ड्राफ्ट को कभी भी रद नहीं हो सकता है क्योंकि इसका भुगतान पहले कर दिया जाता है। रुपये का डिमांड ड्राफ्ट। 20000 या अधिक केवल A/c payee crossing के साथ जारी किया जा सकता है।

बैंक चेक क्या है?

चेक पे ऑर्डर एक ऐसा उपकरण है, जो आमतौर पर गैर-परक्राम्य होता है, जो ग्राहक की ओर से बैंक द्वारा जारी किया जाता है, जिसमें निर्दिष्ट व्यक्ति को एक ही शहर में एक निर्दिष्ट राशि का भुगतान करने का आदेश होता है। चेक जारी करने के लिए आपके पास बैंक अकाउंट और चेक बुक होना चाहिए।

डिमांड ड्राफ्ट और चेक में क्या अंतर है?

चाहे वह बैंकर चेक हो या डिमांड ड्राफ्ट, दोनों इंस्ट्रूमेंट्स की वैलिडेशन अवधि 3 महीने है, यानी तीन महीने की समाप्ति के बाद, इंस्ट्रूमेंट का कोई फायदा नहीं है। एक आम आदमी के लिए, इन दोनों के बीच कोई महत्वपूर्ण अंतर नहीं है, लेकिन वास्तव में, भुगतान के ये दो तरीके कई तरीकों से भिन्न हैं चलिए अब जानते है डिमांड ड्राफ्ट और चेक में क्या फर्क है।

  • डिमांड ड्राफ्ट को रद नहीं किया जा सकता है क्योंकि इसका भुगतान बैंक को पहले ही किया जाता है तब जाकर डिमांड ड्राफ्ट जारी होता है।
  • जबकि एक चेक drawee द्वारा भुगतान को रोकने के निर्देश या खाते में अपर्याप्त धन के कारण केंसिल हो सकता है।
  • डिमांड ड्राफ्ट बैंक जारी करता है जबकि चेक, बैंक के ग्राहक द्वारा जारी किया जाता है।
  • एक चेक भुगतान ग्राहक द्वारा रोका जा सकता है, लेकिन DD के माध्यम से किया गया भुगतान रोका नहीं जा सकता है।
  • एक चेक बुक केवल खाताधारक के लिए उपलब्ध है, जबकि एक डीडी को खाताधारकों के साथ-साथ गैर-खाता धारकों दोनों द्वारा निष्पादित किया जा सकता है यानि DD कोई भी बना सकता है, चाहे उसके पास बैंक खात है या नहीं, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, केवल आप बैंक में पैसे जमा कराकर डिमांड ड्राफ्ट जीसी DD के नाम से भी जाना जाता बना सकते है।
  • बैंक चेक पर कोई भी शुल्क नहीं लेता जबकि डिमांड ड्राफ्ट जारी करने के लिए बैंक चार्ज लेता है।
  • चेक जारी के लिए ग्राहक के हस्ताक्षर अनिवार्य है जबकि DD में हस्ताक्षर की कोई जरुँरत नहीं होती है।
  • डिमांड ड्राफ्ट अपने बैंक अकाउंट में ही इनकैश करा सकता है. जबकि चेक को बैंक अकाउंट में जमा कराये बिना कैश प्राप्त कर सकते है।
  • यदि बैंक में पर्याप्त राशि नहीं है तो चेक के बाउंस हो सकता है जबकि DD में ऐसा नहीं होता क्यूंकि DD बनाने से पहले ही उसकी पूरी रकम वसूल की जाती है।
  • चेक लेन-देन में, 3 पक्ष शामिल होते हैं draw, drawee और pei, जबकि डिमांड ड्राफ्ट में drawer और pei 2 पक्ष शामिल होते है।

डिमांड ड्राफ्ट और चेक में समानताएं

  • डिमांड ड्राफ्ट और चेक दोनों का उपयोग लेनदेन के लिए किया जाता है।
  • दोनों की वैधता अवधि 3 महीने है।
  • दोनों को ग्राहक द्वारा भुगतान किया जाता है।
  • दोनों का उपयोग पैसे के हस्तांतरण के लिए किया जाता है।
  • दोनों की वैधता अवधि 3 महीने की होती है।

तो अब आप जान गए हैं डिमांड ड्राफ्ट और चेक में क्या अंतर है DD और चेक का फर्क जाने के अलावा आपको इनकी समानताएं के बारे में भी पता चल गया होगा, एक बैंक का चेक केवल उसी शहर में उसी बैंक की एक ही शाखा में के लिए जारी किया जाता है। इसका मतलब है कि जारीकर्ता बैंक और निकासी बैंक एक ही होंगे। लेकिन किसी भी शहर में एक ही बैंक की अलग शाखा में डिमांड ड्राफ्ट को मंजूरी दे दी जाती है। इसका मतलब है कि जारी करने वाली शाखा और भुगतान शाखा अलग-अलग शहर में अलग-अलग हो सकती है।

Previous articleफोटो को बूढ़ा कैसे बनाये सबसे अच्छा तरीका
Next articleQuick Heal Total Security को Lifetime Free में कैसे यूज़ करे
Puran Mal Meena
यहाँ पर हम हर दिन ब्लॉग्गिंग, कंप्यूटर, मोबाइल, सोशल मीडिया, मेक मनी और इंटरनेट से संबंधित जानकारी हिंदी में शेयर करते है, यदि आप मेरे से कुछ सीख पाते हैं तो मुझे बहुत खुशी होगी । नीचे दिए गए सोशल मीडिया बटन को दबाकर हमें फॉलो करें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here